परवादी के दबाव में थाना द्वारा की गई कार्रवाई के बावजूद पुलिस विभाग की प्रतिष्ठा को परिवादी ने धूमिल किया

 जयपुर लक्ष्मी नारायण पुरी निवासी आजाद गुप्ता बे अन्य जनों के साथ मिलकर त्रिपोलिया बाजार दुकान नंबर 255 को हड़पने की नीयत से धोखाधड़ी कर रजिस्ट्री दुकान मालिक गोविंद सैनी से करवाए जाने का एक मामला प्रकाश में आया है जानकारी के मुताबिक आजाद गुप्ता लक्ष्मी नारायण पुरी नए एक चेक 19  लाख का दुकान नंबर 255 त्रिपोलिया बाजार को खरीदने हेतु दिया गया जोकि बैंक में पर्याप्त बैलेंस नहीं होने के कारण बैंक से रिटर्न रिटर्न हो गया तब दुकान मालिक द्वारा सौदा बेचन का कैंसिल कर दिया गया तथा इसकी सूचना आजाद गुप्ता लक्ष्मी नारायण पुरी को भी देते हुए कोर्ट में एक सिविल मुकदमा भी दर्ज करा लिया गया इसके बाद आजाद गुप्ता लक्ष्मी नारायण पुरी निवासी द्वारा मिलीभगत पुलिस से कर एक एफ आई आर माणक चौक थाने पर दर्ज करवा दी गई तथा पुलिस पर दबाव बनाते हुए उच्च अधिकारी से निर्देश करवाकर एक तरफा कार्यवाही को अंजाम दिलवाया गया उच्च अधिकारियों के निर्देशन को पालना करते हुए माणक चौक थाना पुलिस मैं एफ आई आर दर्ज कर तुरंत तुरंत कार्रवाई को अंजाम देते हुए दुकान मालिक गोविंद सैनी को गिरफ्तार कर लिया गया उपरोक्त मामले की पुलिस थाना द्वारा की गई जांच में दुकान बेचान को लेकर भुगतान नहीं होने का विवाद होने के कारण माणक चौक थाना पुलिस असेंबल्स में पड़ गई तो परिवादी लक्ष्मी नारायण पुरी निवासी आजाद गुप्ता ने जयपुर से प्रकाशित एक समाचार पत्र मैं मनगढ़ंत कहानी बनाकर पुलिस थाना माणक चौक पर आवभगत मुलजिम की करने का आरोप लगाकर पुलिस की छवि को बदनाम करने की साजिश की गई और समाचार प्रकाशित करवा दिया गया जिसके कारण पुलिस विभाग की अच्छी काशी धूमिल खराब कर दी गई अब देखना यह है कि पुलिस से मिलीभगत करने वाला परिवादी ही पुलिस की प्रतिष्ठा को धूमिल करने में लगा हुआ है अब पुलिस क्या एक्शन लेगी यह एक जांच का विषय है लेकिन फ़िलहाल परिवादी ने पुलिस की प्रतिष्ठा को धूमिल कर दिया गया है


टिप्पणियाँ