एक ही बेड पर सुलाए जा रहे हैं दो दो मरीज़

 *डेंगू  की वजह से पेशेंट को करना पड़ रहा है बाहरी इंतजार*


एक ही बेड पर सुलाए जा रहे हैं दो दो मरीज़



आसलपुर गौरव पारीक


बोबास गांव पीएचसी  में डेंगू और वायरल बुखार के मरीज तेजी से बढ़े हैं.   इन मरीजों को बेड तक नहीं मिल पा रहे हैं. किसी जगह एक बेड पर दो से तीन मरीज भर्ती हैं तो कहीं बेड खाली न होने की वजह से मरीज जमीन पर इलाज कराने को मजबूर हैं। डॉ राजेंद्र कुमार ने बताया कि पीएचसी में 6 बैड की व्यवस्था ही राज्य सरकार की ओर से दी जाती है जिसके कारण थोड़ी सी परेशानी उत्पन्न हो रही है लेकिन फिर भी हमारी कोशिश यही है कि सभी मरीजों को  समय समय पर सही उपचार मिले। उन्होंने कहा कि बेड का होला या नहीं होना कोई मायने नहीं रखता है इस समय अगर सबसे बड़ी चीज बड़ी जाए तो समय पर इलाज आवश्यक है जिसकी सेवाएं हमारा स्टाफ लगातार दे रहा है। वही कुछ ग्रामीणों का कहना है कि राज्य सरकार को चाहिए कि ऐसी गंभीर बीमारियों के लिए प्रत्येक पीएचसी में कम से कम दस दस बेड की अतिरिक्त व्यवस्था होनी चाहिए। राज्य सरकार को चाहिए कि अपने स्तर पर या किसी सामाजिक संस्थाओं द्वारा सभी पीएचसी में अतिरिक्त बेड की व्यवस्था कराई जाए साथ ही साथ चिकित्सालय में बिल्ली वाली अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाए।

टिप्पणियाँ